Wednesday, April 9, 2008

आय'म गॉन फ़िशिंग

क्रिस्टोफ़र मार्टिन रिया (जन्म: ४ मार्च १९५१) इंग्लैण्ड के मिडिल्स्बरो इलाके के रहने वाले गायक हैं. दुनिया भर में क्रिस रिया के नाम से विख्यात इस गायक के पिता मिडिल्सबरो के बाहरी इलाके गाइसबरो में आइसक्रीम पार्लर चलाते थे और स्थानीय बोलचाल में रिया की दुकान पर जाने का मतलब ही आइस्क्रीम खाने जाना हुआ करता था.

ख़ैर. क्रिस रिया को उनके अलबम 'रोड टु हैल'(१९८९) से खासी प्रसिद्धि मिली. आज सुना रहा हूं उन्हीं का गाया अपना एक प्रिय गीत 'गॉन फ़िशिंग'. बेहद साधारण शब्दों के माध्यम से बड़ी दार्शनिक बात कह जाना क्रिस रिया के गीतों की ख़ूबी है. एक जगह वे कहते हैं कि हालांकि मुझे मछली पकड़ने के बारे में कुछ नहीं मालूम तो भी आप देखिये मैं जा रहा हूं मछली पकड़ने. गीत के अन्त में उनका कहना है कि आप सारा जीवन वह बनने में तबाह कर सकते हैं जो लोग आप से बनने की आशा रखते हैं; लेकिन आप मुक्त कभी नहीं हो सकते. तो चलिए मछलियां ही पकड़ी जाएं.

गीत के बोल:

I'm gone fishing
I got me a line
Nothing I do is gonna make the difference
So I'm taking the time

And you aint never gonna be happy
Anyhow, anyway
So I'm gone fishing
And I'm going today

Im gone fishing
Sounds crazy I know
I know nothing about fishing
But just watch me go

And when the time has come
I will look back and see
Peace on the shoreline
That could have been me

You can waste a whole lifetime
Trying to be
What you think is expected of you
But youll never be free

May as well go fishing


3 comments:

sidheshwer said...

धर ली साब!
और पूछ रहा हूं-बोल मेरी मछली कित्ता पानी?
आप कहां हो बाबूजी?

जोशिम said...

नज़रे इनायत - और कान भी [ :-)]

http://www.esnips.com/doc/2278d8fc-3695-45c1-8ca2-f51fe7fd8482/epitaph

The wall on which the prophets wrote
Is cracking at the seams.
Upon the instruments of death
The sunlight brightly gleams.
When every man is torn apart
With nightmares and with dreams,
Will no one lay the laurel wreath
As silence drowns the screams.

Between the iron gates of fate,
The seeds of time were sown,
And watered by the deeds of those
Who know and who are known;
Knowledge is a deadly friend
When no one sets the rules.
The fate of all mankind I see
Is in the hands of fools.

The wall on which the prophets wrote
Is cracking at the seams.
Upon the instruments of death
The sunlight brightly gleams.
When every man is torn apart
With nightmares and with dreams,
Will no one lay the laurel wreath
As silence drowns the screams.


Confusion will be my epitaph.
As I crawl a cracked and broken path
If we make it we can all sit back
And laugh.
But I fear tomorrow Ill be crying,
Yes I fear tomorrow Ill be crying
Yes I fear tomorrow Ill be crying
cr..y..ing. cr..y..ing.
Yes I fear tomorrow Ill be crying
Yes I fear tomorrow Ill be crying
Yes I fear tomorrow Ill be crying
cr..y..ing. cr..y..ing.

Ashok Pande said...

क्या बात है जोशी जी. बहुत शानदार गाने का लिंक लगाया आपने. अलबत्ता व्यक्तिगत रूप से कहूं तो मुझे बहुत डराया है इस गाने ने कई दफ़ा. आज भी बहुत सामयिक और प्रासंगिक गीत.