Friday, September 28, 2012

फ़ैज़ साहब


जिया मोहिउद्दीन सुना रहे हैं इब्ने इंशा जी की एक बेहद मज़ेदार रचना -

1 comment:

नीरज बसलियाल said...

aakhiri kissa kuchh adhura rah gaya , chacha aur adbul kaadir ka :(