Thursday, February 6, 2014

जब फूल का सरसों के हुआ आके खिलन्ता

नज़ीर अकबराबादी की वसंत श्रृंखला जारी –



जब फूल का सरसों के हुआ आके खिलन्ता
और ऐश की नज़रों से निगाहों का लड़न्ता
हमने भी दिल अपने के तईं करके पुखन्ता
और हंस के कहा यार से ए लकड़ भवन्ता

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

एक फूल का गेंदों के मंगा यार से बजरा
दस मन का लिया गुंथा, आठ का गजरा
जब आंख से सूरज के ढला रात का कजरा
जा यार से मिलकर ये कहा ए मेरे रजरा

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

थे अपने गले में तो कई मन के पड़े हार
और यार के गजरे भी थे एक धवन की मिकदार
आंखों में नशे मै के उबलते थे धुंआधार
जो सामने आता था यही कहता था ललकार

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

पगड़ी में हमारी थे जो गेंदों के कई पेड़
हर झोंक में लगती थी बसन्तों के तईं ऎड़
साक़ी ने भी मटके से दिया मुंह के तईं भेड़
हर बात में होती थी इसी बात पे आ छेड़

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

फिर राग बसन्ती का हुआ आन के खटका
धोंसे के बराबर वो लगा बाजने मटका
दिल खेत में सरसों के हर एक फूल से अटका
हर बात में होता था इसी बात का लटका

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

जब खेत पे सरसों के दिया जा के कदम गाड़
सब खेत उठा सर के ऊपर रख लिया झंझाड़
महबूब रंगीलों की भी एक साथ लगी झाड़
हर झाड़ से सरसों के भी कहती थी अभी झाड़

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

साथ लगा जब जो अजब ऐश का दहाड़ा
जिस बाग़ में गेंदों के गए उसको उजाड़ा
देखी कभी सरसों कभी नरगिस को उजाड़ा
कहते थे इसी बात को बन, झाड़, पहाड़ा

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

ख़ुश बैठे हैं सब शाहो वज़ीर आज अहा हा
दिल शाद हैं अदना ओ फ़क़ीर आज अहा हा
बुल्बुल की निकलती है सफ़ीर आज अहा हा
कहता यही फिरता है 'नज़ीर' आज अहा हा

सबकी तो बसन्तें हैं पै यारों का बसन्ता

4 comments:

सुशील कुमार जोशी said...

बहुत सुंदर !

राजेंद्र कुमार said...

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (07.02.2014) को " सर्दी गयी वसंत आया (चर्चा -1515)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

कालीपद प्रसाद said...

bahut sundar!
New post जापानी शैली तांका में माँ सरस्वती की स्तुति !
सियासत “आप” की !

आशा जोगळेकर said...

वाह अनोखी अदा है।