Tuesday, July 27, 2010

एक फ़ोटो एक पोस्ट

रोहित उमराव आजकल चिड़ियों और फूलों की ज़बरदस्त तस्वीरें खींच रहे हैं. इधर वे बरेली से हल्द्वानी आए तो पोस्ट करने के वास्ते कुछ माल जमा करवा गए.

पहली तस्वीर देखिये:



एक बार देखने पर आप कहेंगे कि चमेली का फूल पर एक मधुमक्खी रसास्वादन में व्यस्त है. ज़रा तस्वीर पर क्लिक कर के उसे बड़ा करें.



ग़ौर से देखिये बेचारी मधुमक्खी स्वयं ही एक विशिष्ट प्रजाति की मकड़ी का शिकार बनी हुई है.



(रोहित के खींचे कुछ और फ़ोटोग्राफ़्स आज रात नौ बजे भी देखिये. यह भी बताने का कष्ट करें कि कबाड़ख़ाने का नया टैम्प्लेट कैसा दिख रहा है. मेहरबानी होगी.)

8 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

अरे वाह।

शायदा said...

बढि़या फोटो। टैम्‍पलेट में अब सारा कबाड़ बांए हो गया है, और तफसील दाएं। अच्‍छा है ये भी।

vB said...

There is more white space on both right and left side, which is affecting readability on wide screen monitors. I think main column should be made a little bit wider.

नीरज गोस्वामी said...

कमाल का हत्यारा है ये कीड़ा बिलकुल फूल के रंग सा...फोटो भी अद्भुत है...
नीरज

Syed Ali Hamid said...

The photos are good. Regarding the new template, change is always welcome--- it breaks the monotony.

अशोक कुमार पाण्डेय said...

फोटू गजब…और टेम्प्लेट से अपना अड्डा कैफ़े बन गया है!!!

sajid said...

टैम्प्लेट तो बहुत अच्छा है !
लेकिन थोडा और creative सा बनाइए तो बेहतर है !
वैसे ये भी अच्छा है !

iqbal abhimanyu said...

जनाब फोटू तो लाजवाब हे, लेकिन टेम्पलेट कुछ ज्यादा ही नफीस और हाई-फाई लग रिया हे..... अब छोटा मुह बड़ी बात हे लेकिन, कुछ ठेठ गंवारू अंदाज़ की जरूरत लग रई हे.. आगे आप की मर्जी...