Thursday, November 22, 2012

मेरा वोट लिए बग़ैर भी आप मेरे सांसद हैं

असद जैदी की एक और प्रासंगिक कविता


हिंदू सांसद 

आपका पानी बेस्वाद 
आपका खाना खराब 
आपकी ज़बान गलीज़ 
आपकी बोली अजीब 
आपकी पोशाक नकली
आपका घर बेहूदा
आपका बाहर बेकार
आपकी रूह लापता
आपका दिल मुर्दार
आपका जिस्म आपसे बेजार
आपका नौकर भी है आपसे नाराज़ 

मेरा वोट लिए बग़ैर भी आप
मेरे सांसद हैं
आपको वोट दिए बग़ैर भी
मैं आपकी रियाया हूँ

अचानक आमने सामने हो जाने पर
हम करते हैं एक दूसरे को
विनय पूर्वक नमस्कार