Wednesday, January 28, 2015

चैपल ऑफ़ मैन में नेरुदा के रक्त के आंसू


गालापागोस द्वीप के नज़दीक कीदो नामक स्थान में “चैपल ऑफ़ मैन” संग्रहालय है. 

यह संग्रहालय ओसवाल्डो गुयासार्मिन की कला को समर्पित है जिन्होंने अपनी कला का इस्तेमाल दक्षिण अमेरिकी एकता और विश्व शांति को समर्पित किया था. उनकी एक पेंटिंग देखने लायक है.

‘लागरीमास दे सान्ग्रे’ यानी ‘रक्त के आंसू’ शीर्षक इस पेंटिंग में बने एक सलेटी चेहरे की बाईं आँख से निकले तीन आंसू चेहरे को आधा ढंके दो हाथों की उँगलियों के बीच से होकर खो जाते दीखते हैं. तस्वीर के नीचे दाएं काले बैकग्राउंड में लिखे हुए तीन नाम दिखाई देते हैं – साल्वादोर आयेंदे, पाब्लो नेरुदा और विक्तर ज़ारा. इन तीनों लोगों ने दक्षिण अमेरिका की एकता के लिए अपना सारा जीवन लगा दिया था. दो विश्वयुद्धों, गृहयुद्धों और राजनैतिक अत्याचार को दर्ज करने में इन तीन लोगों के योगदान की स्मृति है यह महान पेंटिंग. अब दुबारा से देखिये.




1 comment:

Dilbag Virk said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 29-01-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1873 में दिया जाएगा
धन्यवाद