Monday, April 23, 2012

चन्द्र सिंह गढवाली अमर रहें!


आज तेईस अप्रैल है. पेशावर कांड को बहत्तर साल होने आए. पेशावर के किस्सा खानी बाज़ार में चन्द्र सिंह गढवाली नाम के एक सिपाही ने बलूचिस्तान के अहिंसक आन्दोलनकारियों पर गोली चलाने के अपने अँगरेज़ अफसर के आदेश को मानने से इनकार कर दिया था. इस अपराध के एवज में उन्हें जेल में कई साल काटने पड़े और तमाम प्रताड़नाएं भुगतनी पड़ीं.

खैर! इस घटना से जुडी तमाम बातें आपको इन्टरनेट पर आसानी से मिल जाएँगी. यहाँ एक बात बताना चाहूँगा. जब गांधी से इस घटना की बाबत पूछा गया तो उन्होंने गढ़वाली के इस कदम की सराहना करने के बजाय कहा था की सेना के अनुशासन को तोडना अच्छी बात नहीं होती.

चन्द्र सिंह गढवाली अमर रहें!

4 comments:

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

amar rahe .

aur gandhi ji to hai hi jindabaad

Sunitamohan said...

koi yaad na dilaye to zyadatar uttrakhandiyon ko yaad bhi na rahe aaj ke din ki mahatta....!
Gandhi Ji ka kathan jo yahn uddhrit hai, sunkar atpataa lagta hai, magar unke apne siddhant the...aage chalkar unhone ye bhi kaha tha ki, agar mujhe aise aur Gadhwali mil jaye to mai bharat ko kal hi aazzaad kara dunga.....!!
kai baar kai baaten insaan ko der se samajh aati hain....

abcd said...

सरताज किसी का मोहताज नहीं होता |
==================================

maheshtt said...

Gandhiji sirf apni wahi wahi chahne walo me se they aur unko apne alawa dusre krantikari avam ajhadi ke sipahi galat hi lagtey the bhagat sing ki fansi aur ye kissa iss baat ki gawahi ke liye kafi hai waise koi mane ya na mane desh ko ajhadi krantikario ki dehsat evam dwitiya vishwa yuddh me britain ke parajay ki wajah se mili naki neharu aur gandhi ki wajah se.