Sunday, November 10, 2013

नहीं रहे बिज्जी



विजयदान देथा नहीं रहे. देश के इस इकलौते बड़े किस्सागो को उनके चाहने वालों ने बिज्जी के नाम से जाना.

उन्हें श्रद्धांजलि. एक बार किसी इंटरनेट साइट पर उनकी कही यह बात मैंने बचा कर रख ली थी. फ़िलहाल वही –

''लोककथाओं को शब्दों में पिरोना अपने आपमें एक कठिन काम था. मैं वह करता रहा. कई लोग मेरी इस शैली की आलोचना करते हैं लेकिन मेरा कहना है कि अगर मैं मौलिक कहानियाँ लिखता तो चालीस-पचास कहानियों के बाद उनमें भी दोहराव या एकरूपता आ ही जाती. सभी कहानियों में बार-बार वही-वही कथानक घूमता रहता. एक कहानी पढ़ो चाहे पचास कहानी पढ़ो, वही एकरूपता दिखती रहती. हमारे राजस्थानी में हजारों, लाखों लोककथाएं हैं. इसलिए मैंने लोककथाओं को आधुनिक रूप में लिखने का फैसला किया.''


7 comments:

VINOD VITHALL said...

Beej jitne purane anr Baadal jitne naye Bijji naheen rahe. :

Bijji se milna hazar saal kee umra wale ek aise jawan kissa-go se milna tha jisne kai-kai yug dekhe aur jo pankheruon aur runkhon se lekar andhere aur chandni tak ki boliyan janta tha. Abola wah sun sakta tha aur adekhe ka akhyaan bana sakta tha. Changez Aytomatov se lekar Rasool Hamzatov aur Chekhov se lekar Dostoevsky tak uski baton men hunkara bharte the. Victor Hugo se lekhar Leo Tolstoy tak uske bulave par aate the. . . . . . . . .

Personal grief.

VINOD Vithall

VINOD VITHALL said...

Beej jitne purane anr Baadal jitne naye Bijji naheen rahe. :

Bijji se milna hazar saal kee umra wale ek aise jawan kissa-go se milna tha jisne kai-kai yug dekhe aur jo pankheruon aur runkhon se lekar andhere aur chandni tak ki boliyan janta tha. Abola wah sun sakta tha aur adekhe ka akhyaan bana sakta tha. Changez Aytomatov se lekar Rasool Hamzatov aur Chekhov se lekar Dostoevsky tak uski baton men hunkara bharte the. Victor Hugo se lekhar Leo Tolstoy tak uske bulave par aate the. . . . . . . . .

Personal grief.

VINOD VITHALL said...

Beej jitne purane anr Baadal jitne naye Bijji naheen rahe. :

Bijji se milna hazar saal kee umra wale ek aise jawan kissa-go se milna tha jisne kai-kai yug dekhe aur jo pankheruon aur runkhon se lekar andhere aur chandni tak ki boliyan janta tha. Abola wah sun sakta tha aur adekhe ka akhyaan bana sakta tha. Changez Aytomatov se lekar Rasool Hamzatov aur Chekhov se lekar Dostoevsky tak uski baton men hunkara bharte the. Victor Hugo se lekhar Leo Tolstoy tak uske bulave par aate the. . . . . . . . .

Personal grief.

मुनीश ( munish ) said...

मुझे याद आता है कि इनकी कहानी परिणती पर मृगया बनी थी शायद जिसमें अभिनय के लिए मिथुन चक्रवर्ती को स्वर्ण कमल मिला था । रंगमंच संबंधी पत्रिकाओं में और अन्य मंचों पर इनकी चर्चा पढ़ी , सुनी हैं । भारत के लोक जीवन की कथाओँ को संजोने वाले महान् शिल्पी के जाने पर उदासी होनी स्वाभाविक है । प्रभु इनकी आत्मा को शांति दें ।

D. R THAPA said...

विनम्र श्रद्धांजलि।

Rajesh Kamal said...

RIP sir.

Suresh Mandan said...

मैंने आज ही पहली बार देथाजी के बारे मैं पढ़ा और फिर उनके देहांत का सुना.विनम्र से कहना चाहता हूँ ऐसा व्यक्ति सदी में एक ही बरा आता है.



सुरेश