Wednesday, July 4, 2012

बारिश में क्या तन्हा भीगना लड़की !


बारिश में क्या तन्हा भीगना लड़की !
  

-परवीन शाकिर 

बारिश में क्या तन्हा भीगना लड़की !
उसे बुला जिसकी चाहत में
तेरा तन-मन भीगा है
प्यार की बारिश से बढ़कर क्या बारिश होगी !

और जब इस बारिश के बाद
हिज्र की पहली धूप खिलेगी
तुझ पर रंग के इस्म खुलेंगे.