Sunday, November 3, 2013

असां उड जाणा



रेशमा नहीं रहीं. मेरे लिए यह भीषण शोक की ख़बर है.

फ़िलहाल उन्हें श्रद्धांजलि देता हुआ मैं कुछ और भी कह सकने में लाचार हूँ. दिन में उन्हें अच्छे से होश में याद करूंगा.

रेशमा दीदी, आपके जाने से जैसे कुछ भीतर से टूट कर दूर कहीं चला गया.

1 comment:

Sushil Kumar Joshi said...

श्रद्धांजलि !